केंद्र सरकार ने अनलॉक 5.0 में 15 अक्टूबर के बाद से स्कूलों को खोलने की अनुमति दे दी है। सरकार ने इसके साथ ही यह भी कहा है कि स्कूलों को खोलने या बंद रखने का फैसला पूरी तरह से राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों पर निर्भर करता है। जिसके बाद से आज उत्तर प्रदेश सरकार ने कक्षा 9 से 12 के छात्रों के लिए विद्यालयों को दोबारा से खोल दिया है, मगर देश में कोविड के बढ़ते मामलों के देखते हुए योगी सरकार ने केंद्र सरकार के कोविड-19 के गाइजलाइंस को मानते हुए स्कूलों के लिए कई गाइलाइंस निर्धारित किए हैं :-

  • सरकार ने इन कक्षाओं को 2 पारी या शिफ्ट में चलाने की बात कही है। पहले शिफ्ट में कक्षा 9 और 10 के छात्र आएंगें जबकि दूसरे शिफ्ट में 11वीं और 12वीं के छात्रों को पढ़ाया जाएगा।
  • 50 प्रतिशत छात्रों के साथ स्कूल खोले गए है। जिसमें 50 प्रतिशत छात्र एक दिन और अगले 50 प्रतिशत छात्र दूसरे दिन स्कूल जा सकेंगे।
  • कंटेटमेंट जोन के बाहर वाले शैक्षणिक परिसर को ही बच्चों के लिए खोला गया है।
  • छात्रों को माता-पिता या अभिभावकों के लिखित अनुमति के बाद ही कक्षा में प्रवेश करने को मिलेगा।
  • ऑनलाइन शिक्षण को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से सरकार ने खासतौर पर उन्हीं बच्चो को विद्यालय में प्राथमिकता देने की बात कही जो ऑनलाइन शिक्षा लेने में असक्षम हैं।
  • स्कूल परिसर में साफ-सफाई, वाशरूम में हैंडवास, जगह जगह पर सैनिटाइजर और बेसिक मेडिकल फेस्लिटी का होना अनिवार्य है।
  • स्कूल परिसर को समय-समय पर सैनिटाइज करना अनिवार्य है।
  • छात्रों के बीच पेन, पेंसिल या किसी भी सामान का लेन-देन करना मना है।
  • अगर छात्र बस का प्रयोग करते हैं तो बसो को छात्र के लाने औऱ छोड़ने के बाद सैनिटाइज करना आवश्यक है।
  • सभी बच्चों, शिक्षकों और कर्मचारियों के लिए मास्क का उपयोग अनिवार्य है।
  • दो बच्चों के बैठने की व्यवस्था ऐसी होनी चाहिए जिससे कि उनके बीच की दूरी कम से कम 6 फीट की हो।
  • सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह से पालन करते हुए ही कक्षा चलाना है।
  • थर्मल स्कैनिंग के बाद ही बच्चों को स्कूल परिसर में प्रवेश मिल सकेगा।

इस घोषणा के बाद सरकार के मापदंडों के अनुरूप आज कौशाम्बी के भरवारी में “नंदी वाणी पब्लिक स्कूल” में पठन-पाठन का कार्यक्रम पुनः शुरू हुआ। स्कूल के संस्थापक एवं निदेशक ‘गौरव वीरेंद्र अग्रवाल’ ने बताया कि सरकार की गाइडलाइंस का पालने करते हुए कक्षा 9 से कक्षा 12 के छात्रों को थर्मल स्कैनिंग के बाद स्कूल परिसर में प्रवेश की अनुमति दे दी गई है ,साथ ही विद्यालय में साफ-सफाई एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा गया। छात्रों और शिक्षकों के लिए पूरे वक्त मास्क के उपयोग को अनिवार्य कर दिया गया है । वापस से स्कूल के खुलने पर बच्चे काफी खुश नजर आए।